Web Crawling क्या है? जाने सारी जानकारी हिन्दी में




Web Crawling क्या है? जाने सारी जानकारी हिन्दी में – मित्रों क्या आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को गूगल के SERPs के फर्स्ट पेज पर बैंक करना चाहते हैं? लेकिन क्या आप इसकी बेसिक Prosses के बारे में जानते हैं? अगर नही, तो मैं आपको बताना चाहता हूं कि इसकी बेसिक प्रक्रिया Web Crawling हैं। लेकिन अगर आप वेब क्राउलिंग के बारे में भी नहीं जानते हैं तो हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे कि web Crawling क्या हैं? ये कैसे कार्य करता हैं? इससे सम्बन्धित सारी जानकारी अपको आगे आर्टिकल में मिलेंगी, इसलिए आप इसे ध्यान से जरुर पढ़े।

अगर आप blogging करते हैं तो गूगल आपके ब्लॉग के लिए सबसे बेस्ट है। लेकिन गूगल को आपके साइट के बारे में बताने के लिए आपको एक वेबसाइट बनानी पड़ेगी। Website बनाने के लिए आपको डोमेन एवं होस्टिंग खरीदना पड़ेगा वेबसाइट को गूगल में सबमिट करना होगा। गूगल में जब आप अपनी वेबसाइट को सबमिट करते हैं तो गूगल आपकी वेबसाइट को Crawling करता हैं। इससे गूगल को आपके कंटेंट के बारे में जानकारी मिलती है । उसके बाद आपकी वेबसाइट गूगल सर्च इंजन के SERPs पेज पर धीरे धीरे Rank करना शुरू करती हैं। अब हम जानते हैं कि Web Crawling क्या है ? एवं कैसे कार्य करता है?

Read More – Top Best Free Web Hosting Providers Company In Hindi

Web Crawling क्या है?

जब कोई व्यक्ति गूगल के सर्च इंजन पर किसी टॉपिक को सर्च करता हैं, तब google के bots एवम् Database पर Store उस टॉपिक से जुड़े हुए update और New web page को खोजना शुरू कर देता है। एवं उस टॉपिक से संबंधित सबसे रिलेवेंट Topic को users के सामने दिखाता है। इस Prosses को ही Web Crawling कहा जाता है। अगर आपकी भी साइट के वेबपेज गूगल के SERPs में रैंक करते हैं तो गुगल उस टॉपिक को भी यूजर्स के सामने दिखाता है।

Web Crawling कैसे कार्य करता हैं?

आपने अब तक जाना की वेब क्राउलिंग क्या है? अब मैं आपको बताना चाहूंगा कि Web Crawling कैसे कार्य करता हैं? आप जानते हैं कि कोरोना काल में ब्लॉगिंग के क्षेत्र में काफ़ी चढ़ाव आया है। क्योंकि ऐसे लोग आराम से घर पर ही काम करके पैसा कमाना सकते है। इसलिए गूगल पर Daily नई वेबसाइट की संख्या में निरंतर वर्द्धि हो रही है। हर ब्लॉगर चाहता है कि उसकी वेबसाइट गूगल के SERPs पर टॉप रैंक करें। क्योंकि वेबसाइट जितनी अच्छी रैंकिंग करेगी उतना ही विजिटर आपके वेबपेज पर विजिट करेंगे।

जब बहुत सारे ब्लॉगर अपनी वेबसाइट को गूगल सर्च इंजन पर सबमिट करते हैं और उसमें नए वेब पेज को जोड़ते है, इसके साथ पुराने web page को अपडेट करते हैं। इस prosses में वेब क्राउलर search queries के आधार पर ब्लॉगर्स द्वारा गुगल सर्च कंसोल पर सब्मिट किए गए सभी pages के यूआरएल को उस query के अकॉर्डिंग सबसे रिलेवेंट पेज को आपस में मिलाता है। इस तरह वेब क्राउलिंग कार्य करता है।

निष्कृष

मुझे उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी, अगर वेब क्राउलिंग से जुड़े आपके मन में कोई सवाल है तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Leave a Reply