अनेक शब्दों के लिए एक शब्द :




आप जानते हैं अनेक शब्दों के लिए एक शब्द ? तो आज हम आपको अनेक शब्दों के लिए एक शब्द के बारे मैं जानकारी देने बाले हैं। जिससे आपको अनेक शब्दों के लिए एक शब्द पता चलेगा। तो आइये जानते हैं “अनेक शब्दों के लिए एक शब्द “

अनेक शब्दों के लिए एक शब्द :

ऐसा कहा गया है- “ कम से कम ‘ शब्दों में अधिकाधिक भाव या विचार अभिव्यक्त करना अच्छे लेखक अथवा वक्ता का गुण है । इसके लिए ऐसे शब्दों का ज्ञान आवश्यक है जो विभिन्न वाक्यांशों या शब्द – समूहों का अर्थ देते हों । ऐसे शब्दों के प्रयोग से कृति में कसावट आती है और अभिव्यक्ति प्रभावशाली होती है ।

एक उदाहरण द्वारा इस बात को और स्पष्टतापूर्वक समझा जा सकता है-

‘ यह बात सहन न करने योग्य है ‘ की जगह पर यह बात असह्य है ‘ ज्यादा गठा हुआ और प्रभावशाली लगता है । इस प्रकार के शब्दों की रचना उपसर्ग प्रत्यय एवं समास की सहायता से की जाती है । हम पहले ही चर्चा कर चुके हैं कि उपसर्ग – प्रत्यय एवं समास की सहायता से नये शब्द बनाए जाते हैं । नीचे कुछ ऐसे ही शब्द दिए जा रहे हैं जो किसी लंबी अभिव्यक्ति के लिए प्रयुक्त होते हैं-

अनेक शब्दएक शब्द
जो क्षमा न किया जा सकेअक्षम्य
जहाँ पहुँचा न जा सकेअगम्य
जिसे सबसे पहले गिनना उचित होअग्रगण्य
जिसका जन्म पहले हुआ होअग्रज
जिसका जन्म बाद / पीछे हुआ हो अनुज
जिसकी उपमा न हो अनुपम
जिसका मूल्य न हो अमूल्य
जो दूर की न देखे / सोचे अदूरदर्शी
जिसका पार न हो अपार
जो दिखाई न देअदृश्य
जिसके समान अन्य न होअनन्य
जिसके समान दूसरा न हो अद्वितीय
ऐसे स्थान पर निवास जहाँ कोई पता न पा सकेअज्ञातवास
जो न जानता होअज्ञ
जो बूढ़ा ( पुराना ) न हो अजर
जो जातियों के बीच में होअन्तर्जातीय
आशा से कहीं बढ़कर आशातीत
अधः ( नीचे ) लिखा हुआ अधोलिखित
कम अक्लवाला अल्पबुद्धि
जो क्षय न हो सके अक्षय
श्रद्धा से जल पीना आचमन
जो उचित समय पर न हो असामयिक
जो सोचा भी न गया होअतर्कित
जिसका उल्लंघन करना उचित न हो अनुल्लंघनीय
जो लौकिक या सांसारिक प्रतीत न होअलौकिक
किसी श्रेष्ठ का मान या स्वागत अभिनन्दन
किसी विशेष वस्तु की हार्दिक इच्छाअभिलापा
जिसके आने की तिथि ज्ञात न हो अतिथि
जिसके पार न देखा जा सके अपारदर्शी
जो स्त्री सूर्य भी न देख सके असूर्यम्पश्या
जो नहीं हो सकता असभव
बढ़ा – चढ़ाकर कहना अतिशयोक्ति
जो अल्प बोलनेवाला है अल्पभाषी
जो स्त्री अभिनय करे अभिनेत्री
जो पुरुष अभिनय करे अभिनेता
बिना वेतन के अवैतनिक
आलोचना करनेवाला आलोचक
सिर से लेकर पैर तक आपादमस्तक
बालक से लेकर वृद्ध तक आबालवृद्ध
आलोचना के योग्य आलोच्य
जिसे जीता न जा सके अजेय
न खाने योग्य अखाद्य
आदि से अन्त तक आद्योपान्त
बिना प्रयास केअनायास
जो भेदा या तोड़ा न जा सके अभेद्य
जिसकी आशा न की गई हो अप्रत्याशित
जिसे मापा न जा सकेअपरिमेय
जो प्रमाण से सिद्ध न हो अप्रमेय
आत्मा या अपने आप पर विश्वास आत्मविश्वास
दक्षिण दिशा अवाची
उत्तर दिशा उदीची
पश्चिम दिशा प्रतीची
जो व्याकरण द्वारा सिद्ध न होअपभ्रंश

Leave a Reply